अहमदाबाद देश में महिला पुलिस थाने शुरू होने के बाद से महिलाओं के एफआईआर दर्ज करवाने की संख्या में 22% की वृद्धि दर्ज की गई है। साथ ही महिलाओं के खिलाफ अपराध भी बढ़े हैं। 2017 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के दर्ज कुल मामलों में सबसे ज्यादा 33.2% मामले पति या उसके परिवार द्वारा हिंसा से संबंधित हैं। देश में एफआईआर की संख्या ही नहीं, बल्कि उसकी साइज भी बड़ी हुई है। यानी वे अपने बातें विस्तृत रूप से दर्ज करवा रही हैं। यह बात जर्मनी की शोधकर्ता डॉ. सोफिया एमरल ने आईआईएम-अहमदाबाद में किए गए अपने शोध को पेश करते हुए कही।वे बुधवार को अपने शोध ‘जेंडर क्राइम एंड पनिशमेंट: एविडेंस फ्रॉम वूमन पुलिस स्टेशन इन इंडिया’ पर छात्रों से संवाद कर रही थीं। उन्होंने शोधकार्य का डेटा साझा करते हुए कहा- ‘महिलाएं पहले खुद के साथ हुई घटनाओं के बारे में पुलिस के सामने खुल कर बात नहीं कर पाती थीं, लेकिन महिला पुलिस थाना शुरू होने के कारण अब महिलाओं के साथ जो होता है, जैसे होता है, वह सहजता से बता रही हैं।’ उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा के बारे में बताया कि भारत में महिलाओं पर अत्याचार होते हैं, लेकिन अन्य देशों की तुलना में भारत में महिलाएं अधिक सुरक्षित हैं। मेरे शोधकार्य के दौरान मुझे यह भी जानने को भी मिला कि यहां महिलाएं खुलकर अपनी आवाज उठा सकती हैं।

शोध के दौरान डॉ. सोफिया राजस्थान, झारखंड और कर्नाटक भी गईं। 2005 से 2017 तक के राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों का अवलोकन किया । 2018-19 की अवधि में दर्ज हुईं कई एफआईआर की भी पड़ताल की। उन्होंने कहा कि कानून व्यवस्था में महिलाओं की हिस्सेदारी भारत में सिर्फ 6 प्रतिशत ही है। अमेरिका में यह संख्या 10% और ब्रिटेन में 29% है। हालांकि कानून व्यवस्था में सबसे अधिक महिला संख्याबल के मामले में युगांडा अव्वल है। डॉ. सोफिया म्यूनिख के लुडविग-मैक्सिमिलियन यूनिवर्सिटी में अर्थशास्त्री हैं।पहला महिला पुलिस थाना केरल में, सबसे ज्यादा तमिलनाडु मेंजर्मन शोधकर्ता डॉ. सोफिया को 60 मिनट के संवाद के दौरान 30 सवालों के जवाब दिए। उन्होंने बताया कि भारत में सबसे पहला महिला पुलिस थाना 27 अक्टूबर 1973 में केरल के कोझीकोड़ में खुला था। देश में सबसे ज्यादा महिला पुलिस थाने तमिलनाडु में हैं। हालांकि पूर्वोतर में कई राज्यों में एक भी महिला पुलिस थाना नहीं है। भारत में महिलाओं से संबंधित अपराधों पर नियंत्रण और महिलाओं को संरक्षण में मिल रही सफलता बढ़ती एफआईआर की दर्ज संख्या से देखी जा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here