समस्त गांवों और नगरीय क्षेत्रों का बार बार हो रहा है सैनीटाइजेशन। गरीबों को निःशुल्क भोजन और राशन वितरण जारी। श्रमिकों के खातों में भेजे गये एक एक हजार रू0। की गई हैं व्यापक व्यवस्थायें। जनधन खातों में पहुंची धनराशि।

38
समस्त गांवों और नगरीय क्षेत्रों का बार बार हो रहा है सैनीटाइजेशन। गरीबों को निःशुल्क
  • कासगंज: जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह ने बताया कि जनपद में लाॅकडाउन के दौरान जनपद वासियों को सुविधायें देने के लिये निरंतर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। दैनिक कार्य कर जीवनयापन करने वाले दिहाड़ी मजदूर, गरीब, असहाय एवं निर्बल वर्ग के व्यक्तियों, रिक्शा, तागा चालक, पटरी, खोमचे वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर 31 मार्च 2020 तक शहरी क्षेत्र के 6557 श्रमिकों, ग्रामीण क्षेत्र के 4653 मजदूरों एवं श्रम विभाग के पंजीकृत 5609 श्रमिकों के बैंक खातों में एक एक हजार रू0 प्रति व्यक्ति की दर से सहायता राशि प्रदान की गई है। इसप्रकार जिले में कुल 16819 व्यक्तियों के खातों में एक करोड़ 68 लाख 19 हजार रू0 की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। लाॅकडाउन के दौरान मनरेगा के कुल 47700 श्रमिकों के खाते में उनके मानदेय का 32 करोड़ 92 लाख 54 हजार रू0 का भुगतान किया गया है।

समस्त गांवों और नगरीय क्षेत्रों का बार बार हो रहा है सैनीटाइजेशन। गरीबों को निःशुल्क भोजन और राशन वितरण जारी। श्रमिकों के खातों में भेजे गये एक एक हजार रू0। की गई हैं व्यापक व्यवस्थायें। जनधन खातों में पहुंची धनराशि। कासगंज: जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह ने बताया कि जनपद में लाॅकडाउन के दौरान जनपद वासियों को सुविधायें देने के लिये निरंतर प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। दैनिक कार्य कर जीवनयापन करने वाले दिहाड़ी मजदूर, गरीब, असहाय एवं निर्बल वर्ग के व्यक्तियों, रिक्शा, तागा चालक, पटरी, खोमचे वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर 31 मार्च 2020 तक शहरी क्षेत्र के 6557 श्रमिकों, ग्रामीण क्षेत्र के 4653 मजदूरों एवं श्रम विभाग के पंजीकृत 5609 श्रमिकों के बैंक खातों में एक एक हजार रू0 प्रति व्यक्ति की दर से सहायता राशि प्रदान की गई है। इसप्रकार जिले में कुल 16819 व्यक्तियों के खातों में एक करोड़ 68 लाख 19 हजार रू0 की आर्थिक सहायता प्रदान की गई है। लाॅकडाउन के दौरान मनरेगा के कुल 47700 श्रमिकों के खाते में उनके मानदेय का 32 करोड़ 92 लाख 54 हजार रू0 का भुगतान किया गया है।
जिलाधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस की रोकथाम और बचाव हेतु जिले के गांव गांव और नगरीय इलाकों में नियमित सैनीटाइजेशन किया जा रहा है। प्रत्येक गली, मुहल्ले और सार्वजनिक स्थानों पर कर्मचारी लगातार सैनीटाइजेशन कर रहे हैं। इसके साथ ही साफ सफाई के लिये स्वच्छता अभियान भी तेजी से चलाया जा रहा है। बाहर से आये लोगों के लिये ग्रामीण क्षेत्रों में क्वारेन्टाइन हेतु विद्यालयों में 256 आश्रय स्थल तथा सभी नगरीय निकायों में 10 शैल्टर होम बनाये गये हैं। जिनमें अब तक 2114 व्यक्तियों को जांच कराने के बाद ठहराया गया था। जिले में कुल 12 सामुदायिक रसोई निरंतर संचालित हैं। जिनमें गरीबों को निःशुल्क वितरण के लिये लगभग 04 हजार पैकेट तैयार किये जा रहे हैं।
लाॅकडाउन में जनसामान्य को सुविधायें देने के लिये 130 किराना स्टोर द्वारा आवश्यक सामग्री, 379 व्यक्तियों द्वारा हाथ ठेला के माध्यम से सब्जियों एवं 729 दूध विक्रेताओं द्वारा दूध की घर घर आपूर्ति की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here