कोरोना महामारी के कारण बीबीएन में सन्नाटा ट्रांसपोर्टेशन न होने व कच्चा माल न आने, ब्लैक मार्केटिंग के कारण धंधा चौपट होने की कगार पर पंजाब के मुख्यमंत्री द्वारा लॉकडौन बढ़ाना सराहनीय बीबीएन 11 अप्रैल शांति गौतम

37
कोरोना महामारी के कारण बीबीएन में सन्नाटा
  • एच डी एम ए हिमाचल प्रदेश ड्रग मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के एग्जीक्यूटिव मेंबर एवं क्युरटेक ग्रुप के एमडी सुमित सिंगला ने विश्व में फैली कोविद 19 कोरोना महामारी को चिंताजनक बताया है। आज उन्होंने पत्रकारों से वार्ता में बताया कि भारत के फार्मा हब मिनी भारत बददी में इस महामारी के चलते करीब 30% फार्मा कंपनियां कार्य कर रही हैं, जो कि अच्छा सूचक नहीं है। दिल्ली मुम्बई मे ट्रांसपोर्टेशन शुरू न होने के चलते प्रदेश को कच्चे माल की आपूर्ति ठप्प पड़ी है, यही नही माल की ब्लैकमार्केटिंग होने के कारण सभी रॉ मटेरियल के रेटो मे 40 फीसदी से लेकर डेढ सौ फीसदी तक बढ़ गए हैं जबकि मार्किट मे कम रेट पर सब रा मटीरियल उपलब्ध हैं। हालांकि आई पी ए रा मटीरियल मैन्युफैक्चरर व ट्रेडर्स ब्लैकमार्केटिंग पर उतारू हैं जो कि बहुत चिंतनीय है। देखने मे आया है कि एक रुपये मे मिलने वाली सैनिटाइजर की बोतल करीब 9 रुपये मे मिल रही है जिस पर सरकार को लगाम लगानी चाहिए।

कंपनिया नही तो काफी घाटे मे चल जाएंगी। उन्होंने कहा कि इस महामारी के लिए वैज्ञानिक भी दवाई बारे इनकार कर चुके हैं इसलिए लोगों को लॉकडौन का पालन करना चाहिए । उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है। उन्होंने इस बात पर भी चिंता जताई कि ऊना के 8 मामले जो कोरोना पॉजिटिव थे जिन्हें ई एस आई अस्पताल में शिफ्ट किया गया है वह दुखदाई है। उन्होंने बताया कि बददी एक अधिक घना क्षेत्र होने के कारण यह बीमारी या ज्यादा पांव पसार सकती है । उन्होंने दावा किया कि शीघ्र यह महममारी खत्म होगी और भारत पुनः सोने की चिड़िया कह लाएगा। सिंगला ने प्रशासन बारे कहा कि लोगों को जागरूक करने में प्रशासन अपनी अहम भूमिका निभा रहा है , उन्होंने बताया कि सरकारी व निजी अस्पताल महामारी के बचाव हेतु पूर्ण रूप से जुटे हुए हैं । उन्होंने आशा जताई कि शीघ्र प्रदेश में लॉकडौन खुलेगा तथा आवागमन शुरू होगा । सिंगला ने कहां की वर्तमान में परिवार परंपरा पर भी इस महामारी का असर देखने को मिला है उन्होंने कहा कि इस दौरान परिवारों को एकजुट होने का मौका मिला है जो कि भविष्य में भी जारी रहेगा। उन्होंने आशा जताई कि प्रशासन द्वारा राशन वितरण आपूर्ति जरूरतमंदों को दी जा रही है, उन्होंने इसके लिए जिला प्रशासन का आभार जताया। उन्होंने दावा किया कि यह महामारी अन्य देशों की तुलना में भारत व हिमाचल में इस महामारी से कम लोग संक्रमित हुए हैं इसका कारण यह है कि यह आस्था का केंद्र है यहां देवी देवताओं की धरती है। उन्होंने हिमाचल को देवभूमि बताते हुए दावा जताया की देवभूमि होने के कारण यहां प्रकृति ने अपना संतुलन बनाया है जिसके परिणाम स्वरूप अधिकतर हिमाचली इस महमारी से बचे हुए हैं।पंजाब के मुख्यमंत्री कैपटन अमरिंदर सिंह के लॉकडौन 30 अप्रैल तक बढ़ाने को उन्होंने तर्कसंगत बताया।

कोरोना महामारी के कारण बीबीएन में सन्नाटा

ट्रांसपोर्टेशन न होने व कच्चा माल न आने, ब्लैक मार्केटिंग के कारण धंधा चौपट होने की कगार पर

पंजाब के मुख्यमंत्री द्वारा लॉकडौन बढ़ाना सराहनीय

बीबीएन 11 अप्रैल शांति गौतम

एच डी एम ए हिमाचल प्रदेश ड्रग मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के एग्जीक्यूटिव मेंबर एवं क्युरटेक ग्रुप के एमडी सुमित सिंगला ने विश्व में फैली कोविद 19 कोरोना महामारी को चिंताजनक बताया है। आज उन्होंने पत्रकारों से वार्ता में बताया कि भारत के फार्मा हब मिनी भारत बददी में इस महामारी के चलते करीब 30% फार्मा कंपनियां कार्य कर रही हैं, जो कि अच्छा सूचक नहीं है। दिल्ली मुम्बई मे ट्रांसपोर्टेशन शुरू न होने के चलते प्रदेश को कच्चे माल की आपूर्ति ठप्प पड़ी है, यही नही माल की ब्लैकमार्केटिंग होने के कारण सभी रॉ मटेरियल के रेटो मे 40 फीसदी से लेकर डेढ सौ फीसदी तक बढ़ गए हैं जबकि मार्किट मे कम रेट पर सब रा मटीरियल उपलब्ध हैं। हालांकि आई पी ए रा मटीरियल मैन्युफैक्चरर व ट्रेडर्स ब्लैकमार्केटिंग पर उतारू हैं जो कि बहुत चिंतनीय है। देखने मे आया है कि एक रुपये मे मिलने वाली सैनिटाइजर की बोतल करीब 9 रुपये मे मिल रही है जिस पर सरकार को लगाम लगानी चाहिए। कंपनिया नही तो काफी घाटे मे चल जाएंगी। उन्होंने कहा कि इस महामारी के लिए वैज्ञानिक भी दवाई बारे इनकार कर चुके हैं इसलिए लोगों को लॉकडौन का पालन करना चाहिए । उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है। उन्होंने इस बात पर भी चिंता जताई कि ऊना के 8 मामले जो कोरोना पॉजिटिव थे जिन्हें ई एस आई अस्पताल में शिफ्ट किया गया है वह दुखदाई है। उन्होंने बताया कि बददी एक अधिक घना क्षेत्र होने के कारण यह बीमारी या ज्यादा पांव पसार सकती है । उन्होंने दावा किया कि शीघ्र यह महममारी खत्म होगी और भारत पुनः सोने की चिड़िया कह लाएगा। सिंगला ने प्रशासन बारे कहा कि लोगों को जागरूक करने में प्रशासन अपनी अहम भूमिका निभा रहा है , उन्होंने बताया कि सरकारी व निजी अस्पताल महामारी के बचाव हेतु पूर्ण रूप से जुटे हुए हैं । उन्होंने आशा जताई कि शीघ्र प्रदेश में लॉकडौन खुलेगा तथा आवागमन शुरू होगा । सिंगला ने कहां की वर्तमान में परिवार परंपरा पर भी इस महामारी का असर देखने को मिला है उन्होंने कहा कि इस दौरान परिवारों को एकजुट होने का मौका मिला है जो कि भविष्य में भी जारी रहेगा। उन्होंने आशा जताई कि प्रशासन द्वारा राशन वितरण आपूर्ति जरूरतमंदों को दी जा रही है, उन्होंने इसके लिए जिला प्रशासन का आभार जताया। उन्होंने दावा किया कि यह महामारी अन्य देशों की तुलना में भारत व हिमाचल में इस महामारी से कम लोग संक्रमित हुए हैं इसका कारण यह है कि यह आस्था का केंद्र है यहां देवी देवताओं की धरती है। उन्होंने हिमाचल को देवभूमि बताते हुए दावा जताया की देवभूमि होने के कारण यहां प्रकृति ने अपना संतुलन बनाया है जिसके परिणाम स्वरूप अधिकतर हिमाचली इस महमारी से बचे हुए हैं।पंजाब के मुख्यमंत्री कैपटन अमरिंदर सिंह के लॉकडौन 30 अप्रैल तक बढ़ाने को उन्होंने तर्कसंगत बताया।

रिपोर्टर अनवर हुसैन हिमाचल प्रदेश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here