पर्यटक चालकों ने लगाई शासन प्रशासन से मदद की गुहार संकट की घड़ी में आर्थिक मदद करे सरकार

82
पर्यटक चालकों ने लगाई शासन प्रशासन से मदद
  • आगरा कोरोना वायरस महामारी के चलते सरकार की तरफ से सोशल डिस्टेंस रखने के लिए कहा जा रहा है जिसका पूर्ण समर्थन कर सोशल डिस्टेंस बनाए हुए हैं और एक बड़ी बीमारी से निजात पाने लिए सरकार का घर में रहकर पूर्ण समर्थन कर लॉक डाउन का पालन कर रहे हैं ।

एेसा ही मंजर आगरा में देखने को मिला। जहां टैक्सी चालकों और मालिकों की फोन वार्ता हुई, जिसमें उन्होंने अपनी परेशानी संबंधी सरकार को मीडिया के माध्यम से अवगत करवाने की गुजारिश की और कहा कि उनके धंधे का बहुत नुकसान हो रहा है।उनकी किश्तें भी नहीं निकल रही हैं, लेकिन किसी ने भी सोशल डिस्टेंस का ख्याल नहीं रखा। यदि वह एेसी में सोशल डिस्टेंस का ख्याल रखें तो स्वस्थ्य रह सकते हैं, कहावत है जान है तो जहान है। ऐसी मुश्किलों को देखते हुए इस पर विचार-विमर्श करने के लिए उत्तर प्रदेश टूरिस्ट ड्राइवर एंप्लाइज यूनियन के सचिव सुभाष चंद्र निगम अध्यक्ष नरेंद्र सिंह के निर्देश पर अमल करते हुए एक फोन वार्ता का आयोजन किया गया। इसमें यूनियन के सचिव सुभाष चंद्र निगम अध्यक्ष नरेंद्र कुमार मीडिया प्रभारी अनिल नागर कार्यकारिणी रिंकू नागर विशेष तौर फोन वार्ता हुई सुभाष चंद निगम ने कहा कि जब से आगरा में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए यूपी सरकार द्वारा लॉकडाउन व कर्फ्यू के हुक्म जारी किए हैं तबसे रोजाना टैक्सी चलाकर कार की किश्तें भरते हुए अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे इन टैक्सी चालकों का परिवार अब भुखमरी की कगार पर पहुंच गया है। उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार को पुरजोर अपील की कि जिस तरह दिल्ली की सरकार ने टैक्सी चालकों व ऑटो रिक्शा वाहन चालकों की आर्थिक मदद की कुछ इस तरह से आगरा पर्यटक चालकों के आर्थिक मदद की जाए वही उनका यह भी कहना है कि उत्तर प्रदेश में आगरा शहर पूरी दुनिया व देश में पर्यटन के रूप में पहचाना जाता है भारत में आने वाले विदेशी पर्यटक बहुत भारी संख्या में आगरा ताजमहल का भ्रमण करने आते हैं और उनकी सेवा में सबसे अधिक सेवा प्रदान करने वाले पर्यटक चालक ड्राइवर आज इसको रोना महावारी की वजह से वह और उनके परिवार सूरत है भुखमरी के कगार पर हैं जिन्हें नहीं शासन व प्रशासन की तरफ से कोई मदद का ऐलान किया गया ना ही प्रशासनिक सुविधा से वंचित रहना पड़ा इस मुश्किल की घड़ी में उनके परिवार खाने पीने के लिए भी इधर-उधर भटक रहे हैं किसी ने भी इनकी सुध नहीं ली इस कारण पर पर्यटक चालकों में बहुत अधिक रोष है क्योंकि उनके बाहन पूर्ण रूप से खड़े हैं और उनकी आमदनी भी ठप हो गई है पर्यटक चालकों ने फोन के माध्यम से उत्तर प्रदेश टूरिस्ट ड्राइवर एंड एंप्लाइज यूनियन के पदाधिकारियों से शासन प्रशासन से गुहार लगाने का आग्रह किया और मदद का आव्हान किया पर्यटक चालकों के अनुरोध पर यूनियन ने चालकों हेतु राशन खाने की सामग्री का आवंटन किया आटा चावल दाल चीनी तेल जैसी सामग्री जरूरतमंद को आवंटित की गई शासन व प्रशासन से गुजारिश की है कि अन्य राज्यों की तरह से हमें भी आर्थिक मदद प्रदान की जाए और हमारे टैक्सी वाहनों के 6 महीने का टैक्स भी माफ किया जाए शौकत अली सुनील कुमार ब्रह्मा कुमार रिंकू नागर मनोज कुमार अनिल नागर रहमान महावीर वीरेंद्र सिंह पंकज नागर सुरेंद्र सिंह आदि मदद की गुहार लगाने में प्रमुख थे


रिपोर्टर आजाद सिसौदिया आगरा