प्रवासी कामगारों पर रखी जाये पैनी नजर, 21 दिन के लिये किया जायेगा होम क्वारेन्टाइन-डीएम

53
प्रवासी कामगारों पर रखी जाये पैनी नजर
  • बाहर से आने वालों की सूची प्रतिदिन दोबार अपडेट करें। जरूरतमंदों को समय से भोजन की व्यवस्था करायें। संकल्प लें कि जनपद में किसी भी दषा में कोई भी भूखा न रहे। कासगंज: जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाष सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिये जिले में बाहर से आने वाले व्यक्तियों

प्रवासी कामगारों पर पैनी नजर रखें। उनकी स्क्रीनिंग कराकर बिना लक्षण वाले व्यक्तियों को 21 दिन के लिये होम क्वारेन्टाइन में भेजा जायेगा। कोई संक्रमित है तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया जायेगा। लक्षण वाले व्यक्ति संक्रमित नहीं पाये जाते हैं तो उन्हें 7 दिनों तक फैसेल्टी क्वारेन्टाइन में रखकर फिर 14 दिन के लिये होम क्वारेन्टाइन में भेजा जायेगा। क्वारेन्टाइन से न तो डरें न घबरायें। संक्रमण के नियंत्रण हेतु यह एक कारगर रणनीति है।
जिलाधिकारी ने समस्त ब्लाक स्तरीय अधिकारी, कर्मचारियों को निर्देष दिये कि प्रवासी कामगारों और बाहर से आने वालों के नाम, पता, मोबा0नं0 सहित प्रतिदिन सूची बनायें व दिन में दोबार अपडेट कर सूचित करते रहें। नियमित स्थानीय जनता के संपर्क में रहकर जानकारी करते रहें। मास्क, गमछा जरूर पहनें, सोषल डिस्टेंसिंग बनाये रखें। आरोग्य सेतु एप जरूर डाउनलोड करायें। प्रवासी कामगारों को होम क्वारेन्टाइन के बाद मनरेगा, व्यक्तिगत/सामु0शौचालय निर्माण कार्य आदि में लगाकर रोजगार दिया जायेगा। अत्यंत गरीबों की भी सूची बना लें। जरूरतमंदों को समय से भोजन की व्यवस्था करानी है। संकल्प लें कि जनपद कासगंज में किसी भी दषा में कोई भूखा न रहे।
ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम निगरानी समिति तथा शहरी क्षेत्रों में मौहल्ला निगरानी समिति बनाकर प्रवासियों पर सतर्क नजर रखी जायेगी। ताकि उनसे कोरोना संक्रमण यहां न फैले। ग्राम निगरानी समिति में आषा, आंगनबाड़ी, चैकीदार, युवा मंगलदल के प्रतिनिधि सदस्य होंगे। क्वारेन्टाइन हुये प्रवासी अपने घर के अलग कक्ष में रह कर मास्क, गमछे से मुंह ढके रहेंगे। प्रवासी के घर में किसी भी अन्य व्यक्ति का प्रवेष प्रतिबन्धित रहेगा। घर के मात्र एक व्यक्ति को आवष्यकतानुसार बाहर निकलने की अनुमति होगी। गर्भवती महिलाओं, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोगियों तथा बुजुर्गों को क्वारेन्टाइन हुये व्यक्ति से अलग रहने की सलाह दी जायेगी। आषा वर्कर द्वारा ऐसे घरों में नियमित पहुंच कर परिवारजनों मंे खांसी, बुखार जैसे लक्षणों की जानकारी ली जायेगी। निगरानी समिति सुनिष्चित करेगी कि उक्त परिवार नियमों का उल्लंघन न करें और परिवार को समस्त राजकीय सुविधाओं व राहत योजनाओं का लाभ मिलता रहे।
मुख्य विकास अधिकारी तेज प्रताप मिश्र ने लाॅकडाउन व सोषल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुये शौचालय निर्माण कार्य, गौषालाओं की देखभाल, वृक्षारोपाण व मनरेगा कार्य आदि पर भी बल दिया। बैठक में पीडी डीआरडीए रामायण सिंह, डीपीआरओ शहनाज अंसारी, बीएसए, डीएसओ, बीडीओ, सहित अन्य जिला स्तरीय व ब्लाक स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

प्रवासी कामगारों पर रखी जाये पैनी नजर, 21 दिन के लिये किया जायेगा होम क्वारेन्टाइन-डीएम
बाहर से आने वालों की सूची प्रतिदिन दोबार अपडेट करें। जरूरतमंदों को समय से भोजन की व्यवस्था करायें। संकल्प लें कि जनपद में किसी भी दषा में कोई भी भूखा न रहे।

कासगंज: जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाष सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में कहा कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिये जिले में बाहर से आने वाले व्यक्तियों/प्रवासी कामगारों पर पैनी नजर रखें। उनकी स्क्रीनिंग कराकर बिना लक्षण वाले व्यक्तियों को 21 दिन के लिये होम क्वारेन्टाइन में भेजा जायेगा। कोई संक्रमित है तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया जायेगा। लक्षण वाले व्यक्ति संक्रमित नहीं पाये जाते हैं तो उन्हें 7 दिनों तक फैसेल्टी क्वारेन्टाइन में रखकर फिर 14 दिन के लिये होम क्वारेन्टाइन में भेजा जायेगा। क्वारेन्टाइन से न तो डरें न घबरायें। संक्रमण के नियंत्रण हेतु यह एक कारगर रणनीति है।
जिलाधिकारी ने समस्त ब्लाक स्तरीय अधिकारी, कर्मचारियों को निर्देष दिये कि प्रवासी कामगारों और बाहर से आने वालों के नाम, पता, मोबा0नं0 सहित प्रतिदिन सूची बनायें व दिन में दोबार अपडेट कर सूचित करते रहें। नियमित स्थानीय जनता के संपर्क में रहकर जानकारी करते रहें। मास्क, गमछा जरूर पहनें, सोषल डिस्टेंसिंग बनाये रखें। आरोग्य सेतु एप जरूर डाउनलोड करायें। प्रवासी कामगारों को होम क्वारेन्टाइन के बाद मनरेगा, व्यक्तिगत/सामु0शौचालय निर्माण कार्य आदि में लगाकर रोजगार दिया जायेगा। अत्यंत गरीबों की भी सूची बना लें। जरूरतमंदों को समय से भोजन की व्यवस्था करानी है। संकल्प लें कि जनपद कासगंज में किसी भी दषा में कोई भूखा न रहे।
ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम निगरानी समिति तथा शहरी क्षेत्रों में मौहल्ला निगरानी समिति बनाकर प्रवासियों पर सतर्क नजर रखी जायेगी। ताकि उनसे कोरोना संक्रमण यहां न फैले। ग्राम निगरानी समिति में आषा, आंगनबाड़ी, चैकीदार, युवा मंगलदल के प्रतिनिधि सदस्य होंगे। क्वारेन्टाइन हुये प्रवासी अपने घर के अलग कक्ष में रह कर मास्क, गमछे से मुंह ढके रहेंगे। प्रवासी के घर में किसी भी अन्य व्यक्ति का प्रवेष प्रतिबन्धित रहेगा। घर के मात्र एक व्यक्ति को आवष्यकतानुसार बाहर निकलने की अनुमति होगी। गर्भवती महिलाओं, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोगियों तथा बुजुर्गों को क्वारेन्टाइन हुये व्यक्ति से अलग रहने की सलाह दी जायेगी। आषा वर्कर द्वारा ऐसे घरों में नियमित पहुंच कर परिवारजनों मंे खांसी, बुखार जैसे लक्षणों की जानकारी ली जायेगी। निगरानी समिति सुनिष्चित करेगी कि उक्त परिवार नियमों का उल्लंघन न करें और परिवार को समस्त राजकीय सुविधाओं व राहत योजनाओं का लाभ मिलता रहे।
मुख्य विकास अधिकारी तेज प्रताप मिश्र ने लाॅकडाउन व सोषल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुये शौचालय निर्माण कार्य, गौषालाओं की देखभाल, वृक्षारोपाण व मनरेगा कार्य आदि पर भी बल दिया। बैठक में पीडी डीआरडीए रामायण सिंह, डीपीआरओ शहनाज अंसारी, बीएसए, डीएसओ, बीडीओ, सहित अन्य जिला स्तरीय व ब्लाक स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here