अब प्रवासी श्रमिकों को राशन किट के साथ मिलेंगे एक हजार रू0। राषनकार्ड से मिलेगा दो माह तक निःषुल्क खाद्यान्न।

40
कार्डधारकों को 11 जून तक वितरित होगा खाद्यान्न
  • कासगंज: जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह ने बताया कि कोविड-19 के दृष्टिगत लाॅकडाउन के कारण उत्पन्न स्थिति से निपटने हेतु प्रवासी श्रमिकों को उनके घर भेजते समय राषन किट के साथ एक हजार रू0 की आर्थिक सहायता भी दी जायेगी। उ0प्र0 शासन के निर्देषानुसार प्रवासी श्रमिकों को घर भेजने पर कच्ची खाद्य सामग्री की राषन किट जिसमें 10 कि0ग्रा0 गेहूं का आटा, 10 किलो चावल, 05 किलो आलू ,02 किलो भुना चना, 02 किलो अरहर की दाल, 500 ग्राम नमक, 250 ग्राम मिर्च, 250 ग्राम हल्दी, 250 ग्राम धनिया एवं एक लीटर सरसों/रिफाइन्ड तेल है, दी जा रही है। इस किट के साथ ही एक हजार रू0 की आर्थिक सहायता भी दी जायेगी।

अब प्रवासी श्रमिकों को राषन किट के साथ मिलेंगे एक हजार रू0। राषनकार्ड से मिलेगा दो माह तक निःषुल्क खाद्यान्न।
कासगंज: जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह ने बताया कि कोविड-19 के दृष्टिगत लाॅकडाउन के कारण उत्पन्न स्थिति से निपटने हेतु प्रवासी श्रमिकों को उनके घर भेजते समय राषन किट के साथ एक हजार रू0 की आर्थिक सहायता भी दी जायेगी। उ0प्र0 शासन के निर्देषानुसार प्रवासी श्रमिकों को घर भेजने पर कच्ची खाद्य सामग्री की राषन किट जिसमें 10 कि0ग्रा0 गेहूं का आटा, 10 किलो चावल, 05 किलो आलू ,02 किलो भुना चना, 02 किलो अरहर की दाल, 500 ग्राम नमक, 250 ग्राम मिर्च, 250 ग्राम हल्दी, 250 ग्राम धनिया एवं एक लीटर सरसों/रिफाइन्ड तेल है, दी जा रही है। इस किट के साथ ही एक हजार रू0 की आर्थिक सहायता भी दी जायेगी।
जिलाधिकारी ने जिले के सभी एसडीएम/तहसीलदारों को निर्देष दिये हैं कि प्रवासी श्रमिकों को एक हजार रू0 की आर्थिक सहायता डीबीटी के माध्यम से देते हुये प्रत्येक प्रवासी का विवरण राहत आयुक्त कार्यालय की वेबसाइट अथवा प्रवासी राहत मित्र एप पर प्रतिदिन अनिवार्य रूप से भरना सुनिष्चित करें। जिन प्रवासी श्रमिकों का बैंक खाता नहीं है, उनका बैंक खाता खण्ड विकास अधिकारी के माध्यम से खुलवाना सुनिष्चित करें। इस कार्य में कोई भी लापरवाही न बरती जाये।
मुख्य विकास अधिकारी तेज प्रताप मिश्र ने बताया कि आर्थिक पैकेज के अंतर्गत अन्य प्रांतों से जनपद मंे आ रहे सभी प्रवासी मजदूरों के राषन कार्ड बनाकर उन्हें दो माह मई और जून का खाद्यान्न 03 किलो गेहूं और 02 किलो चावल प्रति यूनिट की दर से तथा 01 किलो चना प्रति राषन कार्ड निःषुल्क उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंनेे जिले के समस्त सचिवों को निर्देष दिये कि जिले में आ रहे समस्त ऐसे असहाय प्रवासी मजदूरों का अतिषीघ्र चिन्हीकरण कर अद्यतन सूची उपलब्ध करायें, जिनका पहले से राषनकार्ड नहीं है। जिससे उनकी फीडिंग कराकर खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा सके। जिससे कोई भी प्रवासी मजदूर भूखा न रहे। प्रवासी मजदूरों को सामुदायिक षौचालय निर्माण व मनरेगा कार्यों में लगाकर रोजगार से जोड़ा जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here