दो ट्रेनों से 2976 ईंट भट्टा श्रमिक व्यवस्थित और सुरक्षित ढंग से भेजे गये अपने घर बिहार।

80
दो ट्रेनों से 2976 ईंट भट्टा श्रमिक व्यवस्थित और सुरक्षित
दो ट्रेनों से 2976 ईंट भट्टा श्रमिक व्यवस्थित और सुरक्षित

दो ट्रेनों से 2976 ईंट भट्टा श्रमिक व्यवस्थित और सुरक्षित ढंग से भेजे गये अपने घर बिहार।
सभी श्रमिकों को रेलवे स्टेषन पर दिये गये खाने के पैकेट व पानी की बोतलें।
पहली ट्रेन से 1308 तथा दूसरी ट्रेन से 1668 सहित कुल 2976 श्रमिक गये अपने अपने घर।
कासगंज: कोरोना महामारी कोविड-19 के संक्रमण के कारण जनपद कासगंज मेें ईंट भट्टों पर काम करने वाले हजारों श्रमिकों को स्पेषल ट्रेनों द्वारा बुद्ववार को उनके घर बिहार भेजा गया। जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाष सिंह के दिषा निर्देषन मंे सभी श्रमिकों को पूर्ण व्यवस्थित और सुरक्षित तरीके से रेलवे स्टेषन जंक्षन कासगंज से भोजन के पैकेट और पानी की बोतलें देकर रवाना किया गया। प्रस्थान से पूर्व सभी श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिंग एवं सेनेटाइज्ड कराने व मास्क उपलब्ध कराने के लिये चिकित्सकों और कर्मचारियों की टीमें लगाई गई। आज पहली ट्रेन से 1308 तथा दूसरी ट्रेन से 1668 कुल 2976 श्रमिक अपने छोटे छोटे बच्चों सहित अपने अपने घरों के लिये रवाना हुये।
कासगंज रेलवे स्टेषन पर मुख्य विकास अधिकारी तेज प्रताप मिश्र व अपर जिलाधिकारी अजय कुमार श्रीवास्तव द्वारा ट्रेन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया। समस्त व्यवस्थाओं के लिये वरिष्ठ अधिकारियों, कर्मचारियों की टीमें तैनात थीं। जिससे श्रमिकों को अपने घर जाने के लिये किसी भी प्रकार की परेषानी न हो।
रेलवे स्टेषन पर बड़ी संख्या में पहुंचे ईंट भट्टा श्रमिकांे उनके परिवार जनों और बच्चों में घर जाने का उत्साह साफ झलक रहा था। सुबह से ही रेलवे स्टेषन पर श्रमिकों के आने का सिलसिला जारी रहा। जिला प्रषासन के सहयोग से इन श्रमिकों को बिहार राज्य के जमुई व नवादा आदि रेलवे स्टेषन तक भेजने के लिये वरिष्ठ अधिकारियों की देखरेख और निगरानी में व्यापक व्यवस्थायें की गई थीं। बरसात में ईंट भट्टों पर सीजन आफ हो जाने और कोरोना महामारी के कारण श्रमिकों को उनके घरों पर भेजा जा रहा है। गत दिनों भी जिला प्रषासन के सहयोग से एक स्पेषल ट्रेन द्वारा बड़ी संख्या में ईंट भट्टा श्रमिकों को कासगंज से बिहार के लिये भेजा जा चुका है।