पतंजलि का दावा गलत दवाई को कोविड-19 के लिए नहीं दिया गया था लाइसेंस ANI

43
अगर कोरोनिल बिकता हुआ नजर आया तो रामदेव को झेलने पड़ सकते हैं बुरे परिणाम : राजस्थान स्वास्थ्य मंत्री
अगर कोरोनिल बिकता हुआ नजर आया तो रामदेव को झेलने पड़ सकते हैं बुरे परिणाम : राजस्थान स्वास्थ्य मंत्री

एन आई की रिपोर्ट में बताया कि उत्तराखंड के आयुर्वेद डिपार्टमेंट में पतंजलि की दवाई को इम्यूनिटी बूस्टर खांसी एवं बुखार के लिए लाइसेंस दिया था ना कि कोविड-19 के लिए।
न्यूज़ एजेंसी एआई की रिपोर्ट के अनुसार एप्लीकेशन में कोरोनावायरस का जिक्र नहीं किया गया था। यह नहीं कि ट्वीट में कहा गया कि अधिकारी पतंजलि को नोटिस भी देंगे जिससे उनसे कोविड-19 किट के बारे में पूछा जा सके।
यह कोरोनावायरस का दावा इलाज रामदेव बाबा की फॉर्म पतंजलि द्वारा ‘कोरोनिल’ नाम से लांच किया गया। विज्ञापन के अनुसार पतंजलि ने अपनी कोरोनावायरस से 7 दिन के अंदर इंफेक्शन की करने की बात कही है।

मोक्षी खंडेलवाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here