थिरकते पैरों की थम गई सांसे, नहीं रही कोरियोग्राफर सरोज खान

30
थिरकते पैरों की थम गई सांसे
थिरकते पैरों की थम गई सांसे

थिरकते पैरों की थम गई सांसे, नहीं रही कोरियोग्राफर सरोज खान

फिल्म जगत की मशहूर कोरियोग्राफर सरोज खान का कार्डियक अरेस्ट के चलते मुंबई में निधन हो गया। वे बीते कुछ दिनों से अस्वस्थ चल रही थीं, उन्हें बांद्रा स्थित गुरु नानक हॉस्पिटल में सांस की तकलीफ के चलते 20 जून को भर्ती कराया गया था। देर रात उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई और शुक्रवार को उनका निधन हो गया।
चार दशक के लंबे करियर में सरोज खान ने कई मशहूर आभिनेता और अभिनेत्रियों को अपने ताल पर थिरकाया है और आज भी गानों पर उनके डांस स्टेप्स देखकर दर्शक वाह वाही करते नहीं थकते। संजय लीला भंसाली की फिल्म देवदास में डोला-रे-डोला गाने की कोरियोग्राफी के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला था। माधुरी दीक्षित की फिल्म तेजाब के यादगार आइटम सॉन्ग एक-दो-तीन और साल 2007 में आई फिल्म जब वी मेट के सॉन्ग ये इश्क… के लिए भी उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला था। हाल में ही सरोज खान ने करण जौहर की मूवी “कलंक” तबाह हो गए को भी कोरियोग्राफ किया। सरोज खान को फिल्म इंडस्ट्री में अपनी कोरियोग्राफी के चलते एक खास जगह प्राप्त थी ।

*तेजस्विता उपाध्याय*

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here