सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सुशांत सिंह राजपूत केस की सीबीआई जांच की मांग की

130
सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सुशांत सिंह
सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सुशांत सिंह

सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर सुशांत सिंह राजपूत केस की सीबीआई जांच की मांग की

14 जून को बॉलीवुड सितारा सुशांत सिंह राजपूत ने बांद्रा के अपने घर में आत्महत्या कर ली जिसके बाद उनके सारे फैन्स में आक्रोश उमड़ पड़ा। सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या का कारण पुलिस द्वारा डिप्रेशन बताया गया लेकिन फैंस में 1 महीने से सुशांत सिंह राजपूत के मौत के लिए बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में चल रहे परिवारवाद को जिम्मेदार ठहराया और ट्विटर पर लगातार सुशांत के मौत की सीबीआई जांच कराने की मांग निरंतर कर रहे हैं। फैंस द्वारा चलाए जा रहे इस मुहिम में अब भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी भी शामिल है।
भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सुशांत सिंह केस में सीबीआई जांच की मांग की है और इसके लिए उन्होंने एक वकील भी नियुक्त किया है, और इस कारण से उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सुशांत सिंह राजपूत केस की सीबीआई जांच की मांग की है।
इस पत्र में लिखा है, ‘हम सभी फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की असमय हुई मौत से अवगत हैं। मेरे एसोसिएट इशकरण सिंह भंडारी ने इस मामले में रिसर्च की है, हालांकि पुलिस एफआईआर दर्ज करने के बाद परिस्थितियों की जांच कर रही है, मुझे मुंबई में स्थित अपने सूत्रों से पता चला है कि इस मामले में बॉलीवुड के कई बड़े नाम, जिनके दुबई के डॉन से संबंध हैं, इसे पुलिस जांच के जरिए कवर-अप करना चाहते हैं, ताकि इसे आत्महत्या साबित किया जा सके।’इसमें आगे लिखा है, ‘महाराष्ट्र सरकार में ऐसी कई बड़ी राय हैं, जिससे ये साबित हो जाए कि सुशांत राजपूत ने आत्महत्या की है। लेकिन मैं जनता के भरोसे के लिए ये मांग करता हूं कि मुंबई पुलिस इस मामले की जांच निष्पक्षता से करे। मैं इसलिए देश के मुखिया होने के नाते और आपके मासूम लोगों के प्रति झुकाव को देखते हुए ये मांग करता हूं कि आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और राज्यपाल को इस मामले की सीबीआई जांच कराने के लिए सहमत कर सकते हैं।’ इसमें लिखा है कि मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस और इससे उत्पन्न परिस्थितियों के कारण व्यस्त है। इसलिए जनता के भरोसे के लिए सीबीआई जांच जरूरी है।

तेजस्विता उपाध्याय